Press "Enter" to skip to content

Gulzar Shayari in Hindi on Love, Life and Friendship with Image

Last updated on July 29, 2020


Introduction of Gulzar

Before starting the ” Gulzar Shayari in Hindi “, Let’s know about famous Lyricist Gulzar

Many few of we know that the original name of Gulzar is Sampooran Singh Kalra. He is an Indian songwriter, poet, writer, screenwriter and film director. Gulzar was born on August 18, 1934, in Dinah, Jhelum district. For more information of Gulzar Sahab

The songs written by Gulzar, the touching songs, Nazm, shayaris, ghazals, romantic quotes are always on everyone’s lips. The same Gulzar is still ruling the hearts of everyone with the magic of his words. Today, we have brought for you some quotes in Hindi, Shayari in Hindi, ghazals and much more

Gulzar Shayari on Love and Friendship in Hindi

gulzar shayari in hindi, gulzar ki shayari, best shayari of gulzar, shayari of gulzar in hindi, gulzar shayari quotes in hindi, gulzar shayri in hindi, gulzar hindi shayari, gulzar quotes in hindi

वो चीज़ जिसे दिल कहते हैं,
हम भूल गए हैं रख के कहीं

– Gulzar

gulzar shayari in hindi, gulzar ki shayari, best shayari of gulzar, shayari of gulzar in hindi, gulzar shayari quotes in hindi, gulzar shayri in hindi, gulzar hindi shayari, gulzar quotes in hindi

तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं

– Gulzar

कभी तो चौक के देखे वो हमारी तरफ़,
किसी की आँखों में हमको भी वो इंतजार दिखे

– Gulzar

कैसे करें हम ख़ुद को
तेरे प्यार के काबिल,
जब हम बदलते हैं,
तो तुम शर्ते बदल देते हो

– Gulzar

कभी तो चौक के देखे वो हमारी तरफ़,
किसी की आँखों में हमको भी वो इंतजार दिखे

– Gulzar

तन्हाई की दीवारों पर
घुटन का पर्दा झूल रहा हैं,
बेबसी की छत के नीचे,
कोई किसी को भूल रहा हैं

– Gulzar

Gulzar Quotes on Love

शोर की तो उम्र होती हैं
ख़ामोशी तो सदाबहार होती हैं

– Gulzar

Quotes by Gulzar Sahab in Hindi

वक्त रहता नहीं कही भी टिक कर,
आदत इसकी भी इंसान जैसी हैं

– Gulzar

दिल अगर हैं तो दर्द भी होंगा,
इसका शायद कोई हल नहीं हैं

– Gulzar

हाथ छुटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक्त की शाख से लम्हें नहीं तोडा करते

– Gulzar

Famous Quotes and Shayari of Gulzar in Hindi

कुछ अलग करना हो तो
भीड़ से हट के चलिए,
भीड़ साहस तो देती हैं
मगर पहचान छिन लेती हैं

– Gulzar

अच्छी किताबें और अच्छे लोग
तुरंत समझ में नहीं आते हैं,
उन्हें पढना पड़ता हैं

– Gulzar

Watch the video of Gulzar saheb’s shayari

सुनो…
जब कभी देख लुं तुमको
तो मुझे महसूस होता है कि
दुनिया खूबसूरत है

– Gulzar

मैं दिया हूँ
मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं

– Gulzar

Gulzar’s two line shayari in Hindi

एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद
दूसरा सपना देखने के हौसले का नाम जिंदगी हैं

– Gulzar

तकलीफ़ ख़ुद की कम हो गयी,
जब अपनों से उम्मीद कम हो गईं

– Gulzar

घर में अपनों से उतना ही रूठो
कि आपकी बात और दूसरों की इज्जत,
दोनों बरक़रार रह सके

– Gulzar

gulzar shayari in hindi, gulzar ki shayari, best shayari of gulzar, shayari of gulzar in hindi, gulzar shayari quotes in hindi, gulzar shayri in hindi, gulzar hindi shayari, gulzar quotes in hindi

बहुत अंदर तक जला देती हैं,
वो शिकायते जो बया नहीं होती

– Gulzar

शायर बनना बहुत आसान हैं
बस एक अधूरी मोहब्बत की मुकम्मल डिग्री चाहिए

– Gulzar

gulzar shayari in hindi, gulzar ki shayari, best shayari of gulzar, shayari of gulzar in hindi, gulzar shayari quotes in hindi, gulzar shayri in hindi, gulzar hindi shayari, gulzar quotes in hindi

कुछ बातें तब तक समझ में नहीं आती
जब तक ख़ुद पर ना गुजरे

– Gulzar

Gulzar Shayari in Hindi

एक बार तो यूँ होगा, थोड़ा सा सुकून होगा
ना दिल में कसक होगी, ना सर में जूनून होगा

– Gulzar

Chota sa saya tha Gulzar Poetry

छोटा सा साया था, आँखों में आया था
हमने दो बूंदों से मन भर लिया

– Gulzar

सामने आया मेरे, देखा भी, बात भी की
मुस्कुराए भी किसी पहचान की खातिर
कल का अखबार था, बस देख लिया, रख भी दिया

– Gulzar

लकीरें हैं तो रहने दो
किसी ने रूठ कर गुस्से में शायद खींच दी थी
उन्ही को अब बनाओ पाला, और आओ कबड्डी खेलते हैं

– Gulzar

Baehisab Hasrate na paliyae Quotes by Gulzar Sahab

बेहिसाब हसरते ना पालिये
जो मिला हैं उसे सम्भालिये

– Gulzar

Famous Poem of Gulzar

आओ तुमको उठा लूँ कंधों पर
तुम उचकाकर शरीर होठों से चूम लेना
चूम लेना ये चाँद का माथा
आज की रात देखा ना तुमने
कैसे झुक-झुक के कोहनियों के बल
चाँद इतना करीब आया है

– Gulzar

सूरज झांक के देख रहा था खिड़की से
एक किरण झुमके पर आकर बैठी थी,
और रुख़सार को चूमने वाली थी कि
तुम मुंह मोड़कर चल दीं और बेचारी किरण
फ़र्श पर गिरके चूर हुईं
थोड़ी देर, ज़रा सा और वहीं रूकतीं तो

– Gulzar

आदमी बुलबुला है पानी का
और पानी की बहती सतह पर टूटता भी है, डूबता भी है,
फिर उभरता है, फिर से बहता है,
न समंदर निगला सका इसको, न तवारीख़ तोड़ पाई है,
वक्त की मौज पर सदा बहता आदमी बुलबुला है पानी का।

– Gulzar

Gulzar Shayari on Life

बिगड़ैल हैं ये यादे
देर रात को टहलने निकलती हैं

– Gulzar

सुना हैं काफी पढ़ लिख गए हो तुम
कभी वो भी पढ़ो जो हम कह नहीं पाते हैं

– Gulzar

उन्हें ये जिद थी कि हम बुलाये
हमें ये उम्मीद थी कि वो पुकारे
हैं नाम होंठो पे अब भी लेकिन
आवाज में पड़ गयी दरारे

– Gulzar

टूट जाना चाहता हूँ, बिखर जाना चाहता हूँ
में फिर से निखार जाना चाहता हूँ
मानता हूँ मुश्किल हैं…
लेकिन में गुलज़ार होना चाहता हूँ

– Gulzar

Gulzar Shayari and Quotes on Heart

पलक से पानी गिरा है,
तो उसको गिरने दो
कोई पुरानी तमन्ना,
पिंघल रही होगी

– Gulzar

बहुत मुश्किल से करता हूँ,
तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है,
पर गुज़ारा हो ही जाता है

– Gulzar

कोई पुछ रहा हैं मुझसे मेरी जिंदगी की कीमत
मुझे याद आ रहा है तेरा हल्के से मुस्कुराना

– Gulzar

बहुत अंदर तक जला देती है,
वो शिकायतें जो बयाँ नही होती

– Gulzar

मैंने दबी आवाज़ में पूछा – “मुहब्बत करने लगी हो?”
नज़रें झुका कर वो बोली – “बहुत

– Gulzar

आदतन तुम ने कर दिए वादे
आदतन हम ने ऐतबार किया
तेरी राहो में बारहा रुक कर
हम ने अपना ही इंतज़ार किया
अब ना मांगेंगे जिंदगी या रब
ये गुनाह हम ने एक बार किया

– Gulzar

Best Gulzar Poetry

देखो, आहिस्ता चलो, और भी आहिस्ता ज़रा
देखना, सोच-सँभल कर ज़रा पाँव रखना,
ज़ोर से बज न उठे पैरों की आवाज़ कहीं.
काँच के ख़्वाब हैं बिखरे हुए तन्हाई में,
ख़्वाब टूटे न कोई, जाग न जाये देखो,
जाग जायेगा कोई ख़्वाब तो मर जाएगा

– Gulzar

कहू क्या वो बड़ी मासूमियत से पूछ बैठे है ,
क्या सचमुच दिल के मारों को बड़ी तकलीफ़ होती है
तुम्हारा क्या तुम्हें तो राहे दे देते हैं काँटे भी ,
मगर हम खांकसारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

– Gulzar

तेरी यादों के जो आखिरी थे निशान,
दिल तड़पता रहा, हम मिटाते रहे…
ख़त लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में,
उसको पढते रहे और जलाते रहे

– Gulzar

Gulzar Quotes on Life in Hindi

ना दूर रहने से रिश्ते टूट जाते हैं
ना पास रहने से जुड़ जाते हैं
यह तो एहसास के पक्के धागे हैं
जो याद करने से और मजबूत हो जाते हैं

– Gulzar

एक सो सोलह चाँद की रातें
एक तुम्हारे कंधे का तिल
गीली मेहँदी की खुश्बू
झूठ मूठ के वादे
सब याद करादो, सब भिजवा दो
मेरा वो सामान लौटा दो

– Gulzar

शब्द नए चुनकर कविता हर बार लिखू
उन दो आँखों में अपना सारा प्यार लिखू
वो में विरह की वेदना लिखू या मिलन की झंकार लिखू
कैसे इन चंद लफ्जो में दोस्तों अपना सारा प्यार लिखू

– Gulzar

The above are the some best collection of Gulzar Shayari in Hindi, Quotes, Poetry with image

Also See the 110 Best Motivational Quotes of Buddha


One Comment

  1. Prabha Prabha May 28, 2020

    Nice shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *